15 august speech for teachers and students in Hindi

15 अगस्त - शिक्षकों और छात्रों के लिए भाषण

15 august speech for teachers and students in Hindi

शिक्षकों के लिए 


भाषण 1

सभी अध्यापक गण और मेरे सभी अभिभावकों को मेरा प्रणाम..!

सबसे पहले मै आप सभी को सादर आमंत्रित करता हूँ| आप सभी अपना कीमती समय लेकर यहाँ आये इस स्वतंत्रता दिवस के पर्व को मनाने के लिए और मै आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई देता हूँ.
आप सभी जानते है की 15 अगस्त 1947 को हमारा देश आजादी को प्राप्त हुआ था| एक समय था जब लोग आजादी पाने के लिए संघर्ष कर रहे थे| अंग्रेजो ने भारतीयों पर बहुत अत्याचार किया था और लोग उसे सहन कर रहे थेbest Amezon offer on 15 august in hindi
लेकिन कुछ ऐसे अनोखे हिरे भारत में जन्मे जिन्होंने भारत को आजादी दिलाने के लिए अपना सब कुछ खो दिया| उनके भी परिवार थे लेकिन उन लोगो ने अपने पुरे भारतीय परिवार के बारे में सोचा और बस आजादी के लिए जंग लड़ने निकल गए.
उन स्वतंत्रता सेनानियों के कारण ही भारत आजाद हुआ था और उन महान व्यक्तियों के बलिदान की वजह से ही भारत आजाद हुआ था|
उन्होने इस देश को आजादी दिलाने के लिए अपना सब कुछ खो दिया खुद की जान की परवाह तक नहीं की और आखिरकार उन्होने देश को आजादी दिला ही दी.
आज मिलकर हमे उन्हें सलामी देनी चाहिए और उनका शुक्रिया अदा करना चाहिए क्यूंकि आज जो हम है उनके बलिदान की वजह से ही है.
-धन्यवाद

भाषण 2

सभी अध्यापक गण और मेरे सभी मित्रो को सुबह का नमस्कार..!

आज के इस मंगल अवसर पर आप सभी यहाँ इक्क्ठे हुए है| आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ.
आप सभी इस पर्व को मनाने के लिए आज यहाँ बहुत उत्साह के साथ आये है| आप सभी को भारतीय होने पर गर्व होना चाहिए और मै जानता हूँ की आप सभी को खुद के भारतीय होने पर बहुत गर्व महसूस भी होता होगा.
भारत सबसे बड़ा लोकतान्त्रिक देश है| भारत अपनी विविधता और एकता के लिए बहुत प्रसिद्ध है.
हमारे पूर्वजो ने भारत देश को अंग्रेजो से आजाद कराने के लिए ना जाने कितने संघर्ष करे, कितनी लड़ाईया करी| उन्होने इतने संघर्ष किये की वो लोग मर कर भी अमर हो गए और आज हम उन्हें याद कर रहे है.
अगर उस समय भारत में वो अनमोल हिरे ना पैदा हुए होते तो शायद भारत आजादी के मुकाम पर ना पहुंचा होता.
अगर भारत आज एक आजाद और लोकतान्त्रिक देश है तो ये सिर्फ और सिर्फ हमारे पूर्वजो की क़ुरबानी और उनके बलिदान के कारण ही है.
आज हम झंडा फहराकर और अपने पूर्वजो को याद करकर उन्हें सलामी देंगे और उन्हें याद करके उन्हें शुक्रिया अदा करेंगे क्यूंकि उन्होने उस समय जो अपने देश के लिए किया वो अब कोई नहीं कर सकता| – धन्यवाद..!

भाषण 3

15 अगस्त भारतवर्ष का एक राष्ट्रीय त्यौहार है| 15 अगस्त, 1947 का दिन भारत देश के इतिहास में सुनेहरो अक्षरों से लिखा गया है| इस शुभ दिन पर हमारा देश सैंकड़ो वर्षो की अंग्रेजी पराधीनता से स्वंतंत्र हुआ था.
अनेको आत्मबलिदान के त्याग और सैंकड़ो महापुरुषों के संघर्ष एवम तपस्या से यह आज़ादी हमे मिली है| तभी से भारत के करोड़ो नागरिक इस त्यौहार कोस्वंतंत्रता दिवसके रूप में बड़े हर्ष और उल्लास से मनाते हैं.
इस अवसर पर सभी विद्यालय, कार्यालय, कारखाने, संस्थान और बाजार बंद रहते हैं| इस दिन प्रत्तेक वर्ष भारतवर्ष की राजधानी दिल्ली में लाल किला की प्राचीर पर प्रधानमंत्री राष्ट्रीय ध्वज फहराते है तथा देशवासियों के नाम संदेश देते हैं.
राष्ट्रीय ध्वज को 21 तोपों की सलामी दी जाती है, तत्पश्चातजन गण मन अधिनायक जय हैराष्ट्रीय गान होता है.
स्वतंत्रता तथा समृधि का प्रतीक यह दिवस भारत के कोने-कोने में बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता है| 15 अगस्त की सुबह राष्ट्रीय स्तर के नेतागण पहले राजघाट आदि समाधियो पर जाकर महात्मा गांधी आदि राष्ट्रीय नेताओ तथा स्वंतंत्रता-सेनानियों को श्रधांजलि अर्पित करते है फिर लाल किले के सामने पहुच कर सेना के तीनो अंगो (वायु, जल स्थल सेना) तथा अन्य बलों की परेड का निरिक्षण करते है तथा उन्हें सलामी देते हैं.
15 अगस्त को सभी सरकारी कार्यालयों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है तथा सभी लोग अपने घरो दुकानों पर राष्ट्रीय-धवज फहराते हैEssay on 15 August in Hindi
इस दिन रात्री के समय कार्यालय अनेक विशेष स्थानों पर विघुत-प्रकाश किया जाता है| इसकी सुन्दरता के कारण भारत की राजधानी दिल्ली एक नववधू-सी लगने लगती है.
सभी स्कूलों कॉलेज में यह पर्व एक दिन पूर्व अर्थात 14 अगस्त को ही मना लिया जाता है| इस दिन स्कूलों में बच्चो को फल, मिठाइयो आदि विपरीत की जाती है|
देश भर में नाना प्रकार के कार्यक्रम होते है| लेख-भाषण प्रतियोगिता, कवि सम्मलेन आदि का आयोजन होता है|
स्वतंत्रता जीवन का एक महान मूल्य है| जैसे मन को शांति, हृदय को प्यार-स्नेह और भूखे को अन्न चाहिए वैसे ही व्यक्ति को स्वतंत्रता चाहिए|
15 अगस्त भारत के गौरव सौभाग्य का पर्व है| यह पर्व हम सभी के हृदयों में नवीन स्फूर्ति, नवीन आशा, उत्साह तथा देश-भक्ति का संचार करता है| यह स्वंतत्रता-दिवस हमे इस बात की याद दिलाता है कि इतनी कुर्वानियाँ देकर जो आजादी हमने प्राप्त की है, उसकी रक्षा हमे हर कीमत पर करनी है| चाहे हमे उसके लिए अपने प्राणों की आहुति की क्यों देनी पड़े.
इस प्रकार पूरी उमंग और उत्साह के साथ इस राष्ट्रीय पर्व को मनाकर हम राष्ट्र की स्वतंत्रता तथा सार्वभौमिकता की रक्षा का प्रण लेते है.


छात्रों के लिए


भाषण 1

मेरे माननीय अध्यापक गण और यहां आये मेरे सभी सहपाठियों को मेरा सादर प्रणाम..!
सबसे पहले तो मै मेरे अध्यापक का बहुत बहुत शुक्रिया करूंगा जिन्होंने मुझे भारत के महान देशवासियों के लिए देशभक्ति भाषण देने का मौका दिया.
आज मै आप सबको बताना चाहूंगा की भारत देश आज एक आजाद देश है| यहा सब अपनी मर्जी से रह सकते है, किसी भी भारतीय नागरिक पर कोई रोक टोक नहीं है परन्तु भारतीय होने के नाते हमे हमारे देश के कानून और नियमो का पालन भी करना चाहिए यही हमारे भारतीय होने की पहचान है की हम अपने देश के नियम कानून का पालन कर रहे है.
आजादी ! जब भी हम आजादी का नाम सुनते है तो दिल में एक जोश भर जाता है| आज हमारे आजाद रहने और भारत के आजाद होने का कारण सिर्फ और सिर्फ वो स्वतंत्रता सेनानी है जिन्होंने भारत के लिए अपनी जान तक कुर्बान करदी.
उस समय भारत के लोग इतने आगे नहीं थे जितने की आज है| आज हम टेक्नोलॉजी के साथ साथ बहुत आगे बढ़ रहे है.
आज भारत बहुत आगे बढ़ चूका है लेकिन कुछ कुछ जगह ऐसी भी है जहां अब भी लोग पिछड़े हुए है इसिलए आज हमे ये वचन लेना चाहिए की हम शिक्षित बनेंगे तो सभी को शिक्षित बनने के लिए प्रेरित करेंगे.
 आप लोगो ने सुना भी होगा पढ़ेगा इंडिया तभी तो बढ़ेगा इंडिया..!
August 15, 2018 Quotes, Shayari, Status in hindi
हमारे पूर्वजो ने तो हमारे देश को बचाने के लिए ना जाने कितनी क़ुरबानी दी है हमे भी अपने देश के लिए कुछ करना चाहिए इसिलए आज से हम भारतीय नागरिक होने के साथ साथ एक समाज सेवक भी बनेंगे और भारत को आगे बढ़ाने के हर प्रयास करेंगे.
आज के समय में सबसे अधिक बातचीत शिक्षित वर्ग की होती है यदि आप शिक्षित है तो आप अपने पेरो पर खड़े हो सकते है.
जैसे की आज हमारे बड़े कहते है की हम पढ़ लेते तो कुछ बन जाते लेकिन हम भी आगे जाकर ऐसा सोचे ऐसा नहीं होना चाहिए इसिलए हमे पढ़ना चाहिए, कुछ बनना चाहिए ताकि हम अपने देश को और आगे बड़ा सके और सबसे पहले शुरुआत खुदसे होती है.
हम सर्वप्रथम खुद शिक्षित होंगे फिर अपने परिवार को भी शिक्षित होने को कहेंगे और फिर समाज को जिससे की हम और हमारा देश और कामयाबी की और बढ़ता चला जाए.


भाषण 2

मेरे सभी शिक्षकों और मेरे सभी सहपाठियों को मेरी और से प्रणाम..! आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं.
दोस्तों, अपने देश से अटूट प्यार करना ही देश भक्ति है| एक सच्चे एक देशभक्त का सर्व श्रेष्ठ गुण यह है की अपने देश के लिए अपने प्राणो तक की भी चिंता करना, देश के लिए अपने प्राण त्यागने पड़े तो ये भी कर देना
आज मै आप सब से आजादी के विषय में कुछ बात करना चाहता हूँ| दोस्तों, भारत सोने की चिड़िया कहा जाने वाला देश है आज भी भारत किसी सोने की चिड़िया से कम नहीं है| अंग्रेजो ने आकर इस सोने की चिड़िया पर कब्जा करना चाहा और उन्होने 200 साल तक हमारे भारत देश पर राज किया.
उनके जुल्म को सहना किसी अत्याचार से कम नहीं था| व्यापार करने आये फिरंगी इस देश पर कब्जा ही जमाने बैठ गए लेकिन फिर भारत के स्वतंत्रता सेनानियों ने जन्म लिया जिन्होंने ना जाने कितनी लड़ाईया लड़ी, ना जाने कितने अत्याचार सहे, जाने कितनी बार जेल गए.
उन्होंने अपने सुख का त्याग किया, अपने देश के सुख के लिए उन्होने अपने ऊपर कितने ही जुल्म सहन किये तब जाकर ये देश आजाद हुआ है

सेकड़ो वर्ष गुलामी की जंजीरो में जकड़ा रहा है हमारा देश भारत.!
भारत की आजादी के लिए कई लाख लोगो ने अपना सुख, चैन गवा दिया और आजादी की लड़ाई लड़ने चल पड़े| उन्होने अपने प्राणो की आहुति दी जिससे की हम लोग आने वाली पीढ़ी सुखी रह सके.
भारत माँ के वो सभी सपूत आज हमारे लिए प्रेरणा के स्त्रोत है| उन विरो का रण हम कभी नहीं चूका सकते है.
आजादी का दिन भी किसी त्यौहार से कम नहीं है जैसे हम हमारे सभी त्योहारों को बड़े ही धूम धाम से मनाते है ऐसे ही हमे आजादी के दिन को भी बड़े ही धूम धाम से मनाना चाहिए क्यूंकि आज हम अगर खुलकर रह रहे है, खा रहे है, पि रहे है तो सिर्फ और सिर्फ स्वतंत्रता सेनानियों की वजह से|
हम आज एक बहुत अच्छी जिंदगी जी रहे है वरना एक समय था जब लोग मर मर कर जी रहे थे वो भी अपने ही देश में, अपनी ही जन्म भूमि पर|
  • रानी लक्ष्मी बाई जी जिन्होंने अंग्रेजों से लगातार 2 हफ्ते तक युद्ध किया था|
  • लाल बहादुर शास्त्री जी जिन्होंनेजय जवान जय किसानका नारा लगाया था और देश के लोगो को आजादी की जंग लड़ने के लिए प्रोत्साहित किया था|
  • बाल गंगा धर तिलक जिन्होंने पुरे भारत घूम घूम कर लोगो को प्रेरित किया|
  • लाला लाजपत राय जो एक आंदोलन के दौरान बुरी तरह घायल हुए और फिर उनकी मृत्यु हो गई|
  • चंद्र शेकर आजाद, मंगल पांडेय, भगत सिंह, भीम राव अम्बेडकर और भी कई ऐसे स्वतंत्रता सेनानी थे

जिन्होंने इस देश को आजादी दिलाने के लिए ना जाने कितने जुल्म सहन किये|
आज भारत आजाद है और हम सभी एक आजाद जिंदगी जी रहे है सिर्फ और सिर्फ उन लोगो की वजह से जिन्होंने देश के लिए अपनी जान तक ग्वादी.

आज हम झंडा फहराकर उन स्वतंत्रता सेनानियों को सलामी देंगे| अब बस मै इतना कहना चाहूंगा की अपनी जन्म भूमि से प्रेम कीजिये और हमेशा अपनी देश की सेवा के लिए तटपर रहिये. -धन्यवाद|

भाषण 3

सेवा में
श्रीमान महानुभाव
एवं यहाँ उपस्थित मेरे भाई एवं बहनो, सबसे पहले में आप सभी को १५ अगस्त की सुभकामनाये देता हु और भगवान से प्राथना करता हूँ की वो आपको हमेशा स्वस्थ रखे जैसा कि हम सभी जानते है की आज हम १५ अगस्त की ७० वर्षगांठ मानाने जा रहे है हम जानते है कि १५ अगस्त का नाम भारत के इतिहास में स्वर्णिम अक्षरो में रहेगा जैसा कि हम सभी जानते है कि हम १५ अगस्त १९४७ को आज़ाद हुवे थे उससे पहले हम अंग्रेज़ो के अधीन थे, वो अंग्रेज जो हम पर अत्याचार करते थे । 15 august 2018 Quotes,Speech & all information in Hindi
नई दिल्ली में स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर पंडित जवाहरलाल नेहरु ने भाषण दिया था। जब पूरी दुनिया के लोग सो रहे थे, ब्रिटीश शासन से जीवन और आजादी पाने के लिये भारत में लोग संघर्ष कर रहे थे। अब, आज़ादी के बाद, दुनिया में भारत सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है। हमारा देश विविधता में एकता के लिये प्रसिद्ध है। भारतीय लोग हमेशा अपनी एकता से जवाब देने के लिये तैयार रहते है।
हमारे देश में कही देशभक्तो ने जनम लिया और हमारी आज़ादी के लिए लिए कही सूर बीरो ने अपना बलिदान दिया हमे आज़ादी बड़े कठिनाइयों से प्राप्त हुवी है हमे आज़ादी की अहमियत समझनी चाहिये और देश को प्रगतिशील बनाये रखना चाहिए आज हम अपने घरो में अपने देश में आज़ाद घूमते है ये उन्ही सूरवीरों का काम है जिन्होंने देश के लिए अपना बलिदान दिया
१५ अगस्त को हम बड़े गर्व के साथ मानते है १५ अगस्त को भारत के प्रधानमंत्री लाल किले पर तिरंगा फहराते है और भारतीय सेना इस दिन इंडियागेट पर परेड करती है इस दिन भव्य कार्यक्रमो का आयोजन होता है, भारत के प्रधानमंत्री अपने भाषण से सारी जनता को संबोधित करते है एक बार में फिर से आप सभी को १५ अगस्त की हार्दिक बधाई देती हु|

धन्यवाद 

भाषण 4

आदरणीय प्रधानाचार्यजी, सभी अध्यापकगण और मेरे प्यारे मित्रों, आज हम सब यहाँ स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए एकत्रित हुए हैं.
आजादी कहें या स्वतंत्रता ये ऐसा शब्द है जिसमें पूरा आसमान समाया है.
आजादी एक स्वाभाविक भाव है यदि बीज को भी धरती में दबा दें तो वो धूप तथा हवा की चाहत में धरती से बाहर जाता है क्योंकि स्वतंत्रता ही जीवन है| स्वतंत्रता के बिना जीवन का कोई अस्तित्व ही नही!
व्यक्ति को पराधीनता में चाहे कितना भी सुख प्राप्त हो किन्तु उसे वो आनन्द नही मिलता जो स्वतंत्रता में कष्ट उठाने पर भी मिल जाता है| तभी तो कहा गया है कि पराधीन सहनेहूँ सुख नहीं.
सदियों से भारत अंग्रेजों की दासता मन था, उनके अत्याचार से जन-जन त्रस्त था| खुली फिजा में साँस लेने को बेचैन भारत में आजादी का पहला बिगुल 1857 में बजा किन्तु कुछ कारणों से हम गुलामी के बंधन से मुक्त नही हो सके.   Best Images and Songs for August 15
वास्तव में आजादी का संघर्ष तक अधिक हो गया जब बाल गंगाधर तिलक ने कहा किस्वतंत्रता हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है”.
अनेक क्रातिकारियों और देशभक्तों के प्रयास तथा बलिदान से आजादी की गोरव गाथा लिखी गई है.
जिस देश में चंद्रशेखर, भगत सिंह, राजगुरु, सुभाष चंद्र बोस, रामप्रसाद बिस्मिल जैसे क्रांतिकारी तथा गाँधी, तिलक, पटेल, जवाहरलाल नेहरु जैसे देशभक्त मोजूद हों उस देश को गुलाम कोन रख सकता था.
आखिर देशभक्तों के महत्पूर्ण योगदान से 15 अगस्त 1947 को अंग्रेजों की दासता एवं अत्याचार से हमें आजादी प्राप्त हुई थी.
ये आजादी अमूल्य है क्योंकि इस आजादी में हमारे असंख्य भाई-बंधुओ का संघर्ष, त्याग तथा बलिदान समाहित है.
ये आजादी हमें उपहार में नही मिली है| वंदे मातरम् और इंकलाब जिंदाबाद की गर्जना करते हुए अनेक वीर देशभक्त फांसी पर झूल गए.
13 अप्रैल 1919 को जलियाँवालाहत्याकांड, वो रक्त रंजित भूमि आज भी देश-भक्त नर-नारियों के बलिदान की गवाही दे रही है.
आजादी अपने साथ कई जिम्मेदारियां भी लाती है, हम सभी को जिसका ईमानदारी से निर्वाद करना चाहिए किन्तु क्या आज हम 71 वर्षों बाद भी आजादी की वास्तविकता को समझकर उसका सम्मान कर रहे है?
आलम तो ये है कि यदि स्कूलों तथा सरकारी दफ्तरों में 15 अगस्त मनाया जाए और उस दिन छुट्टी की जाए तो लोगों को याद भी रहे कि स्वतंत्रता दिवस हमारा राष्ट्रिय त्यौहार है जो हमारी के सबसे अहम दिनों में से एक है.
वैलेटाइन डे को स्वतंत्रता दिवस से भी बड़े पर्व के रूप में मनाया जा रहा है. इसीलिए तो कवी प्रदित ने कहा है.

    || मेरे वतन के लोगों, जरा आँख में भर लो पानी
    जो शहीद हुए हैं उनकी, जरा याद करो क़ुरबानी ||

आज हम जिस खुली फिजा में साँस ले रहे हैं वो हमारे पूर्वजों के बलिदान और त्याग का परिणाम है.
हमारी नैतिक जिम्मेदारी बनती है कि मुश्किलों से मिली आजादी की रूह को समझें .
आजादी के दिन तिरंगे के रंगो का अनोखा अनुभव महसूस करें इस पर्व को भी आजाद भारत के जन्मदिवस के रूप में पूरे दिल से उत्साह के साथ मनाएँ.
स्वतंत्रता का मतलब केवल सामाजिक और आर्थिक स्वतंत्रता ही नही है इस स्वतंत्र देश के नागरिक होने के नाते हमे अपने आप से ये वादा करना है कि हम अपने देश को विकास की ऊँचाइयों तक ले जायेंगे और भारत को फिर से सोने की चिड़िया बनाएगे ताकि हमारे देशभक्तों और शहीदों का बलिदान व्यर्थ ना जाए!
|| जय हिन्द, भारत माता की जय, वन्दे मातरम् ||

Also read...